Authors Posts by Ak

Ak

39 POSTS 0 COMMENTS

गांधी की नजर से भी देखें वाराणसी को

महात्मा गांधी 1903 में पहली दफा वाराणसी गए। हिंदू होने की वजह से स्वाभाविक था कि उनमें काशी विश्वनाथ मंदिर के दर्शन की इच्छा हो। मगर उन्होंने वहां जो देखा, उससे वह बिल्कुल भी...

पहाड़ को इस तरह भी देखिए

चार युवाओं ने 25 मई, 1974 को हिमालय पर एक लंबी पदयात्रा की शुरुआत की। ये चारों उस लोकप्रिय उत्तराखंड आंदोलन के कार्यकर्ता थे, जिसका उद्देश्य उत्तर प्रदेश के पर्वतीय जिलों को मिलाकर एक...

इस तरह आपके किसी भी काम में नहीं आयेगी अड़चन

जब भी मैं किसी व्यक्ति को उनके जीवन में उन्हें धीमा होने या किसी काम को आराम से करने की सलाह देता हूं तो अक्सर वो मुझसे एक जायज सवाल पूछते हैं, “मेरे पास...

हर काम करने में होती है देरी? करें ये ध्यान

एलीसन एगन डाटवानी लिखती हैं कि खुद को एकाग्र करने और ऊर्जावान बनाने के लिए आपको दिन के केवल पांच मिनट की आवश्यकता है। हर कोई अधिक से अधिक समय चाहता है। किसी को...

कैसे पायें वायरल के संक्रमण से छुटकारा

यह साल का वह समय है जब नमी और तापमान वायरल रोग के प्रसार में सहायक होते हैं। हर कोई फ्लू से पीड़ित दिखाई पड़ता है। तो क्या आपने खुद को घर के अंदर...

एक लंबे इंतजार के बाद पुनर्जीवित होना संभव है

मुकुल शर्मा इस बात पर आश्चर्य व्यक्त करते हैं कि किसी भी शरीर को बर्फ में संरक्षित रखकर उसे पुनर्जीवित करना संभव है।2016 के अक्टूबर महीने के शुरुआती दिनों की बात है। एक 14...

पावापुरी जलमंदिर बिहार के पावापुरी में स्थित है।

पावापुरी जलमंदिर बिहार के पावापुरी में स्थित है। यह मंदिर जैन धर्म के संस्थापक और 24 वे तीर्थंकर भगवान महावीर का है और इसी जगह पर भगवान महावीर ने समाधी ली थी। ईसापूर्व 528...

पावापुरी जलमंदिर का इतिहास – Pawapuri Jal Mandir History

पावापुरी जलमंदिर सभी मंदिरों से बिलकुल अलग है क्यों की यह मंदिर पूरी तरह से पानी में बनाहुआ मंदिर है और साथ ही इस मंदिर में चारो तरफ़ कमल के फूल दिखाई देते है।...

ये आर्टिकल आपकी जान बचा सकता है

आपदा के समय ज़्यादातर लोग वो अहम काम करने में असफल रहते हैं जो उनकी जान बचा सकता है.लेकिन ऐसा क्यों होता है ? इसका जवाब खोजते समय 27 सितंबर 1994 की उस घटना...

क्या आज का समाज महिलाओं के लिए Safe है? – Are womens safe in...

                        क्या आज का समाज महिलाओं के लिए  Safe है?                समाज जिसकी जननी एक औरत है वही आज इस समाज में safeनहीं है. और आदमी जिसकी जननी भी एक औरत है, उस आदमी से भी आज वोsafe नहीं है.  यह कितनी  शर्मनाक बात है कि हमारा समाज आज हमारी बहनों,माँ, व बेटियों के लिए safe नहीं है. क्या  आज हम इस बात से आश्वस्त हो सकते है कि हमारे घर की बहू बेटियॉ बाहर safe है. कि क्या अगर उनके साथ बाहर अगर कोई , कुछ गलत हरकत करता है तो क्या कोई उनका साथ देगा.           सच पूछो...